Wednesday, April 17, 2013

जो जिस भाव से जितनी मात्रा में शरणागत होता है बस मैं उसको उतनी ही मात्रा में अपनापन , प्यार , कृपा , स्प्रिचुअल पावर देता हूँ ! पूरा चाहते हो तो पूरी शरणागति , अधूरा चाहते हो तो अधूरी शरणागति कर लो ! बिल्कुल नहीं चाहते तो शरीर को पटकते जाओ मन संसार में आसक्त रहे , ऐसा कर लो ! तुम्हें जो फल चाहिये वैसा ही कर्म करो !
****श्री महाराज जी .
जो जिस भाव से जितनी मात्रा में शरणागत होता है बस मैं उसको उतनी ही मात्रा में अपनापन , प्यार , कृपा , स्प्रिचुअल पावर देता हूँ ! पूरा चाहते हो तो पूरी शरणागति , अधूरा चाहते हो तो अधूरी शरणागति कर लो ! बिल्कुल नहीं चाहते तो शरीर को पटकते जाओ मन संसार में आसक्त रहे , ऐसा कर लो ! तुम्हें जो फल चाहिये वैसा ही कर्म करो !
****श्री महाराज जी .