Monday, April 8, 2013

श्यामा श्याम निरन्तर गुरु के अन्दर बाहर सन्निहित हैं इस कारण गुरु धाम ही हरि धाम है।
---श्री महाराज जी।
श्यामा श्याम निरन्तर गुरु के अन्दर बाहर सन्निहित हैं इस कारण गुरु धाम ही हरि धाम है।
---श्री महाराज जी।