Thursday, April 11, 2013

श्री श्यामा श्याम के दिव्य प्रेम रस का निरंतर पान करो।
---श्री महाराज जी।