Tuesday, January 5, 2016

यह तन विष की बेलरी, गुरु अमृत की खान।
शीश दियो गुरु मिले, तो भी सस्ता जान।।