Saturday, December 19, 2015

श्री कृष्ण का माधुर्य रस इतना विलक्षण है कि श्रीकृष्ण स्वंय अपने आप को देखकर मुग्ध हो जाते हैं एवं अपना ही आलिंगन करना चाहते हैं । अतः वे निजजन के ही मनमोहन नहीं हैं , वरन अपने मन के भी मोहन हैं ।
-------जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज।