Sunday, December 6, 2015

कीर्तन में बैठते नहीं हैं और सोचते हैं भगवतप्राप्ति कर लेंगे।
........श्री महाराजजी।