Friday, July 14, 2017

मेरी श्यामा मेरे श्याम,विहरत नित वृन्दावन धाम।

मेरी श्यामा मेरे श्याम,इक श्रृंगार एक छविधाम ।

मेरी श्यामा मेरे श्याम,देत 'कृपालु' कृपा बिनु दाम।।

------- जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज।