Friday, July 14, 2017

भक्ति के विषय में वैसे तो सब अधिकारी हैं, लेकिन ‘भक्ति रसामृत सिन्धु’ में तीन भाग कर दिये हैं। एक उत्तम अधिकारी, एक मध्यम अधिकारी और एक कनिष्ठ।
उत्तम अधिकारी कौन है?
शास्त्रे युक्तौ च निपुणः सर्वथा दृढ़ निश्चयः।
प्रौढ़श्रद्धोऽधिकारी यः स भक्तामुत्तमो मतः॥
ध्यान दो!
नम्बर एक— शास्त्र-वेद के ज्ञान में निपुण हो। अगर वो निपुण नहीं होगा, तो एक आदमी ने अपने तर्क से उसके दिमाग में भूसा भर दिया और वो अलग हो जायेगा। हमारी बुद्धि तो वैसे ही संशयात्मा है, इसलिये शास्त्र-वेद का ज्ञान परमावश्यक है और वो भी किसी महापुरुष से मिले। पण्डितों से मिलने से वो काम नहीं बनेगा, और दिमाग खराब हो जायेगा।
और, नम्बर दो— ‘सर्वथा दृढ़ निश्चयः’, निश्चय दृढ़ हो, ढुलमुल नहीं। अंदर भगवान् बैठे हैं। क्या पता बैठे हैं कि नहीं? बैठे होते, तो कुछ तो मालूम पड़ता। लेकिन, शास्त्र-वेद झूठे नहीं हैं। हाँ, ये तो ठीक है।लेकिन...लेकिन...लेकिन...लेकिन....। ये भक्ति नहीं कर सकता। दृढ़ निश्चय हो।
वाल्मीकि से कहा—
मरा-मरा कहते रहना, जब तक हम लौट के न आवें,
तो, ये क्वेश्चन नहीं किया, कब लौट के आयेंगे आप? चुप।
बस आज्ञापालन, ‘सर्वथा दृढ़ निश्चयः।’
और,
‘पौढ़ः श्रद्धाः’ और श्रद्धा प्रगाढ़ हो, भूख हो। हमको पाना ही है, इसी जन्म में पाना है। ये उत्तम अधिकारी है।
इसको कोई कुसंग कुछ नहीं कर सकता।

---- जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज।