Tuesday, September 13, 2016

हम दाेषदृष्टि से देखना आरम्भ करेंगे तब ताे संसार मे एक भी मनुष्य दाेष से रहित दृष्टिगाेचर नहीं हाेगा। संसार ही दाेष-गुण के संम्मिश्रण से बना है।
--------जगद्गुरु श्री कृपाल जी महाराज।