Tuesday, September 13, 2016

हमारे मन भाय गये, श्यामा श्याम।
हमारो जीवन दोउ, श्यामा श्याम।
हमारो प्रानन प्रिय,श्यामा श्याम।
हमारी गति मति रति ,श्यामा श्याम।
हमारो सर्वस दोउ, श्यामा श्याम।।
----- जगद्गुरु श्री कृपालुजी महाराज।