Tuesday, September 13, 2016

श्री महाराजजी से प्रश्न: धैर्य क्या है?
श्री महाराजजी द्वारा उत्तर : प्रतिकूल परिस्थिति को भी हरि-गुरु की कृपा मानकर उसे सहर्ष स्वीकार करना ही 'धैर्य' है।