Tuesday, September 13, 2016

जितनी भी आत्मशक्ति काे नष्ट करने वाली चीज़ है वह प्राइवेसी(Privacy) ही है।
------ जगद्गुरु श्री कृपालुजी महाराज।