Friday, July 8, 2016

मानव देह को क्षणिक जानकर भी सत्पथ में उधार करना सबसे बड़ा अविवेक है।
----- जगद्गुरु श्री कृपालुजी महाराज।