Friday, July 8, 2016

सत्य,अहिंसा आदि सदाचार का आचरण अन्त:करण की शुद्धि के बिना असंभव है।

----- जगद्गुरु श्री कृपालुजी महाराज।