Friday, August 31, 2012


तोहिं पतित जनन ही प्यारे हैं,
हम अगनित पापन वारे हैं!
पुनि कत कर एतिक बेरी, न भुक्ति नाहीं मुक्ति मांगूँ मैं!
नित सेवा मांगूँ श्यामा श्याम तेरी, न भुक्ति नाहीं मुक्ति मांगूँ मैं!
बढ़ें भक्ति निष्काम नित मेरी, न भुक्ति नाहीं मुक्ति मांगूँ मैं!

जगद्गुरुत्तम प्रभु श्रीकृपालुजी महाराज की जय.............