Tuesday, August 30, 2016

हम पतितों की प्राण हैं राधे, जीवनधन अरमान हैं राधे।
स्वामिनी कर दो दया की दृष्टि, कि दिन रात हम तुमहें ही आराधे ।।