Tuesday, August 30, 2016

God is omnipresent and at the same time omniscient. He takes note of your every thought.
ईश्वर सर्वव्यापक है, साथ ही वह सर्वज्ञ और सर्वान्तर्यामी भी है। वह हमारे प्रत्येक संकल्प को नोट करता है।
------JAGADGURU SHRI KRIPALUJI MAHARAJ.