Wednesday, May 4, 2016

अपने को दीन, पतित, अधम मानो वरना जीवन भर की कमाई खो जायेगी।

------श्री महाराजजी।