Sunday, September 14, 2014

"भक्तियोग-रस-अवतार अभिराम,करें निगमागम समनव्य ललाम।
श्यामा-श्याम नाम,रूप,लीला,गुण,धाम, बांटि रहे प्रेम निष्काम बिनु दाम।"