Wednesday, May 15, 2013

श्री राधे हमारी सरकार, फ़िकिर मोहिं काहे की ।

हित अधम उधारन देह धरेँ, बिनु कारन दीनन नेह करेँ ;

जब ऐसी दया दरबार , फ़िकिर मोहिं काहे की ।

...........श्री महाराजजी।
श्री राधे हमारी सरकार, फ़िकिर मोहिं काहे की ।

 हित अधम उधारन देह धरेँ, बिनु कारन दीनन नेह करेँ ;

 जब ऐसी दया दरबार , फ़िकिर मोहिं काहे की ।
 
...........श्री महाराजजी।