Saturday, May 4, 2013

यदि ह्रदय में कूड़ा -कबाड़ा संसार बैठ गया तो गुरु को कहाँ बैठायेंगे ?
----श्री महाराज जी।