Sunday, November 1, 2015

हरि-गुरु को अपने साथ महसूस करना ही सबसे बड़ी साधना है। इससे हम अपराधों से भी बचे रहेंगे।
........श्री महाराजजी।