Friday, February 20, 2015

सत्संग हो या कुसंग, मनुष्य जैसा संग करता है वैसा ही बन जाता है।
.........श्री महाराजजी।