Thursday, March 16, 2017

अनादिकाल से साधना की असफलता के पीछे एक ही अवगुण रहा है...!
हरि गुरु का स्मरण त्याग कर मन संसार में लगाना।
.......श्री महाराज जी।