Monday, September 14, 2015

संसार से वैराग्य इसलिये नहीं है की हमे तत्वज्ञान नहीं है, अत: तत्वज्ञान के सिद्धान्त को सदा ही रीवाईज़(revise) करते रहना चाहिए ।
-------श्री महाराजजी।