Sunday, April 6, 2014

श्रद्धा , सत्संग , एवं हरिभक्ति , यह तीनों हरि की प्राप्ति कराने में हेतु हैं।
.......श्री महाराज जी।