Sunday, April 6, 2014

जिस संसार की वासना पूर्ति के पश्चात और विकराल वासना उत्पन्न होती है उस संसार को बार-बार मांगने में हानि ही तो है।
........श्री महाराजजी।