Sunday, August 11, 2013

भक्ति साधना से ही अंतःकरण शुद्ध होगा तभी दिव्य भक्ति एवं श्री कृष्ण प्राप्ति होगी।
......श्री कृपालु महाप्रभु जी।