Sunday, August 11, 2013

हम दिन भर क्या कर रहे हैं? '420' ही तो कर रहे हैं की भगवान हमारा है। और सच क्या है कि उनको छोड़ करके संसार को अपना मान करके संसार ही में सुख ढूँढ रहे हैं।
........श्री महाराजजी।