Friday, July 5, 2013

अगर कोई हमको बुरा-भला भी कहता है तो सोचो कि उसने कौन सी नयी बात या गलत बात कह दी। भगवदप्राप्ति के पहले हममें सब अवगुण ही तो भरे पड़े हैं। फिर फ़ैक्ट(fact) को मानने में हमें बुरा क्यों लग रहा है।
------श्री महाराजजी।