Friday, July 5, 2013

हमारे पास से जब आप संसार में जाते हैं तो बिल्कुल बदल जाते हैं। कुछ तो काम अधिक हो जाता है और कुछ लापरवाही अधिक होती है। काम करते समय भी हरि गुरु को नहीं भूलना चाहिए। इसका अभ्यास करना चाहिए। अगर हरि गुरु को सदा साथ रियलाईज़ करते रहें तो फिर काम , क्रोध ,लोभ , मोह , ये जो शत्रु हैं , नाश करते हैं हमारी साधना का , फिर ये नहीं आते।
-------जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज।