Wednesday, February 6, 2013

‎'इस जन्म में न हो, अगले जन्म में भगवान को पाऊँगा' यह कैसी बात है? ऐसा ढीलाढाला सुस्त भाव नहीं रखना चाहिए। उनकी कृपा से उन्हें इसी जन्म में प्राप्त करूँगा - मन में इस तरह का जोर रखना चाहिए, विश्वास रखना चाहिए। इसके बिना नहीं होगा। ढीलाढाला भाव अच्छा नहीं। अपने में जोर लाकर, विश्वास के साथ कहो - 'उन्हें जरुर पाऊँगा, अभी इसी क्षण पाऊँगा!'
------------जगदगुरु श्री कृपालु जी महाराज।
'इस जन्म में न हो, अगले जन्म में भगवान को पाऊँगा' यह कैसी बात है? ऐसा ढीलाढाला सुस्त भाव नहीं रखना चाहिए। उनकी कृपा से उन्हें इसी जन्म में प्राप्त करूँगा - मन में इस तरह का जोर रखना चाहिए, विश्वास रखना चाहिए। इसके बिना नहीं होगा। ढीलाढाला भाव अच्छा नहीं। अपने में जोर लाकर, विश्वास के साथ कहो - 'उन्हें जरुर पाऊँगा, अभी इसी क्षण पाऊँगा!'
 ------------जगदगुरु श्री कृपालु जी महाराज।