Sunday, February 3, 2013



जगद्गुरु स्वामी श्री कृपालु जी महाराज समझाते हैं ..............

जिसने अनुकूल ही रहने का निश्चय कर लिया है । फिर उसका कोई क्या कर लेगा? रामानंद सरीखे संत ने कबीरदास से कह दिया कि हम तुमको चेला नहीं बनायेंगे. कबीरदास ने सोचा, बहुत भोले हैं

गुरूजी.. '''''कहीं गुरु चेला बनाया करता है ! गुरु चेला नहीं बनाता, चेला गुरु बनाया करता है..''''' मैं तुम्हारे अनुकूल चिंतन ही करूँगा तब तुम क्या करोगे? उसने वही किया और वह इतना बड़ा संत कबीरदास बन गया ।

 प्रथम श्रद्धा युक्त हो जा, शरण गुरु पद प्यारे |
गुरु की बुद्धि में जोड़ निज बुद्धि, है शरण यह प्यारे |