Monday, February 4, 2013

सुनु वंशीवारे साँवरे |
लख चौरासी योनि चराचर, चलत पिराने पाँव रे |
यदपि मिली नर तनु सुर दुर्लभ, लागी भल यह दाँव रे |
तदपि न तुम सन हेत करत मन, लेत न तुम्हरो नाँव रे |
मृग मृगजल ज्यों प्यास बुझत नहिं, धोखा है सब ठाँव रे |
...
अब कृपालु अपनाव ‘कृपालुहिं’, देहु वास नँदगाँव रे ||

भावार्थ - हे मुरली मनोहर श्यामसुन्दर ! हमारी भी सुन लो | जड़ चेतनात्मक चौरासी लाख योनियों में भटकते - भटकते हमारे पाँव थक गये | यधपि देवताओं के लिए भी दुर्लभ मानव देह हमें मिली | बड़ा अच्छा अवसर है | किन्तु यह मूढ़ मन न तुम्हारा नाम लेता है और न तुमसे प्रेम ही करता है | जैसे हिरन की प्यास मरुस्थल में उड़ते हुए बालू के कणों पर सूर्य - रश्मियों के पड़ने में भ्रमवश दीखने वाले जल से नहीं बुझती, उसी प्रकार सांसारिक पदार्थों के विषयों से इन्द्रिय मन आदि की तृप्ति नहीं होती | हे कृपासिन्धु ! अब ‘श्री कृपालु जी’ को अपना बनाकर नन्दग्राम का वासी बना दो |

( प्रेम रस मदिरा दैन्य - माधुरी )
जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज
सर्वाधिकार सुरक्षित - राधा गोविन्द समिति.