Wednesday, January 9, 2013


त्रिभुवन में सत केवल हरि व हरिभक्त ही हैं, शेष असत हैं।

------श्री महाराजजी।