Saturday, January 19, 2013

अपने तन , मन , प्राणों का समर्पण कर हरि एवं गुरु की दिव्य सम्पति के अधिकारी बन जाओ !

*******जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज .
अपने तन , मन , प्राणों का समर्पण कर हरि एवं गुरु की दिव्य सम्पति के अधिकारी बन जाओ !

*******जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज .