Friday, January 11, 2013




रूपध्यान ही साधना है, उपासना है, भक्ति है।
-----श्री महाराजजी।